Fixed Deposit का ब्याज नहीं रहा आकर्षक, ये हैं निवेश के 7 बेहतरीन विकल्प

Fixed Deposit के ब्‍याज में लगातार कटौती ने Bank FD के रिटर्न को फीका कर दिया है। अब  बैंकों में  Fixed Deposit की दरें आकर्षक नहीं रह गई हैंं। वजह साफ है कि बैंकों के पास कर्ज लेने वाले नहीं है।

Advertisement

वहीं, बैंकों के पास ज्‍यादा लिक्विडिटी होने से नकदी का ढेर जमा हो चुका हैं। चूंकि, पैसों को ब्‍याज पर देना ही बैंकों की प्रमुख आय का साधन है, जो प्रभावित हो रहा है। नतीजतन इसका असर Fixed Deposit की ब्‍याज दरों में कटौती के रूप में सामने आ रहा है।

एसबीआई ने हाल ही में Fixed Deposit के इंटरेस्ट रेट में कटौती की है। अब सीनियर सिटीजन को 5 साल के Fixed Deposit पर 6.2 प्रतिशत ब्‍याज दिया जा रहा है। वहीं, बाकी के लिए 5.2 प्रतिशत दर है। पीएनबी यानी पंजाब नेशनल बैंक 5 साल की एफडी पर आम लोगों को 5.25 प्रतिशत ब्‍याज दे रहा है।

प्राइवेट बैंकों में HDFC bank  भी 5.5 प्रतिशत से 6.25 प्रतिशत ब्‍याज की रेंज में एफडी ऑफर कर रहा है।

अधिक टैक्‍स ब्रैकेट में आने वाले निवेशकों के लिए ये ब्‍याज दरें बिल्‍कुल आकर्षक नहीं हैं। हालांकि, बैंक एफडी में जिस तरह कटौती हुई है वैसी हालत अन्‍य सरकारी जमा योजनाओं की नहीं हैं। ऐसे कई विकल्‍प मौजूद हैं, जिनसे के मुकाबले ज्‍यादा रिटर्न कमाया जा सकता है। इनमें 7 प्रतिशत और इससे ज्‍यादा का का रिटर्न हासिल किया जा सकता है।

आइए, यहां ऐसे ही विकल्‍पों के बारे में जानते हैं, जिनमें निवेश से एफडी के मुकाबले आपको ज्‍यादा फायदा हो सकता है।

1-म्‍यूचुअल फंड की लिक्विड स्‍कीम

म्‍यूचुअल फंड की उम्‍दा लिक्विड स्‍कीम में 7 प्रतिशत और इससे ज्‍यादा का रिटर्न हासिल किया जा सकता है। जैसा कि नाम से पता चलता है कि इसमें लिक्विडिटी सबसे ज्‍यादा होती है। यानी जब चाहे पैसा निकाला जा सकता है। इसमें एक साल से कम जमा पर एसटीसीजी और 3 साल से ज्‍यादा के जमा पर एलटीसीजी लगता है। बावजूद इसे बेहद लोकप्रिय और फायदेमंद निवेश माना जाता है।

लिक्विड फंड्स के बारे में अधिक जानकारी के लिए 

पढें- Liquid funds में निवेश दिलाएं Saving और Bank FD से ज्‍यादा रिटर्न

ये भी पढ़ें-How to choose a liquid fund : लिक्विड फंड कैसे चुने ?

2-सुकन्‍या समृद्धि योजना

बेटियों के सुनहरे भविष्‍य के लिए लाई गई इस योजना में एक साल में अधिकतम 1.5 लाख जमा किए जा सकते हैं। सुकन्‍या समृद्धि योजना के तहत 10 साल से कम उम्र बेटी के नाम पर अकाउंट खोला जाता है।

स्‍कीम में फ्लोटिंग इंट्रेस्ट रेट के हिसाब से सालाना ब्‍याज जुड़ता है। हाल में यह ब्‍याज दर 7.6 फीसदी है, जो बैंक एफडी से काफी ज्‍यादा है। बेटी के नाम से पैसे जमा करने वाले माता-पिता को 1.5 लाख तक के निवेश पर टैक्‍स लाभ मिलता है।

यह बेनेफ‍िट सेक्शन 80सी के तहत मिलता है। अच्‍छी बात यह है कि हर साल ब्‍याज से होने वाली कमाई टैक्स फ्री होती है। चूंकि सुकन्‍या समृद्धि योजना को बेटी की पढ़ाई और शादी आदि पर होने के खर्च की दृष्टि से बनाया गया था, इसलिए खाते की मैच्‍योरिटी बेटी की उम्र के 21 साल पर होती है।

सुकन्‍या समृद्धि योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए

यह भी पढें- Sukanya Samriddhi Yojana (SSY): 3 गुना रिटर्न के लिए यहां करें निवेश

3-सीनियर सिटीजन सेविंग स्‍कीम

सीनियर सिटीजन सेविंग स्‍कीम (एससीएसएस) 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए बेहद लाभदायी है। इसका खाता बैंक अथवा पोस्‍ट ऑफ‍िस में खोला जा सकता है। 5 साल की अवधि में खात में जमा पैसा मैच्‍योर होता है।

खाताधारक के निवेदन पर खाते की अवध‍ि को महज एक बार 3 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। सीनियर सिटीजन सेविंग स्‍कीम में फ‍िलहाल 7.40 प्रतिशत ब्‍याज दिया रहा है। खाते में न्यूनतम 1,000 रुपये और अधिकतम 15 लाख रुपये जमा कराए जा सकते हैं।

सेक्शन 80सी के तहत टैक्स बेनिफिट में छूट मिलती है सो अलग। ब्‍याज का भुगतान हर तिमाही आधार होता है, लेकिन मैच्‍योरिटी अमाउंट 5 साल पूरे होने पर मिलता है।

यह भी पढें- Post office scheme में शानदार रिटर्न, 5 साल बाद सीनियर सिटीजन को मिलेंगे 21 लाख

4-प्रधानमंत्री वय वंदना योजना

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना सीनियर सिटीजन को पेंशन प्रदान करने वाली स्‍कीम है। सीनियर सिटीजन को मंथली पेंशन का चुनने का विकल्‍प है।

योजना के तहत 10 साल तक तय दर से गारंटीशुदा पेंशन दी जाती है। स्कीम में डेथ बेनिफिट का लाभ भी समाहित है। इसके तहत नॉमिनी को खरीद मूल्य लौटाया जाता है। एलआईसी की ओर से संचालित इस पॉलिसी की अवधि तीसरी बार बढ़ाई गई है।

अब 31 मार्च, 2023 तक सीनियर सिटीजन इस योजना का लाभ ले सकते हैं। स्कीम में न्‍यूनतम उम्र 60 साल और अधिकतम उम्र की सीमा नहीं है। एक व्यक्ति अधिकतम 15 लाख रुपये स्कीम में जमा कर सकता है। 7.4 फीसदी ब्‍याज के साथ प्रधानमंत्री वय वंदना योजना सीनियर सिटीजंस के लिए बहुत अच्‍छा विकल्‍प हैं।

यह भी पढें- Elss funds में निवेश कर पाएं जबरदस्‍त रिटर्न

5-पब्लिक प्रोविडेंट फंड

पब्लिक प्रोविडेंट फंड यानी पीपीएफ निवेश का बहुत पसंदीदा विकल्प माना जाता है। बतौर भविष्‍य निधि उनके लिए ये निवेश का बेहतरीन साधन है, जो प्राइवेट नौकरी में हैं। पीपीएफ के लिए बैंक या पोस्‍ट ऑफ‍िस में एक खाता खुलवाना होता है।

इसमें सालाना अधिकतम निवेश 1.5 लाख रुपये तक किया जा सकता है। सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट मिलती है। ब्याज पर होने वाली कमाई टैक्स फ्री है। यहां तक मैच्योरिटी पर मिलने वाली धनराशि भी कोई टैक्‍स नहीं देना होता।

पब्लिक प्रोविडेंट फंड खाते में 15 साल की लॉक-इन अवधि होती है। इस कारण खाते में जमा पैसों को 15 साल से पहले नहीं निकाला जा सकता। वर्तमान इंटरेस्‍ट रेट अभी 7.1 प्रतिशत है।

पब्लिक प्रोविडेंट फंड के बारे में विस्‍तार से जानने के लिए

यह भी पढें- PPF में 500 रुपये के निवेश से तैयार करें लाखों का फंड

 

6-वॉलेंटरी प्रोविडेंट फंड (वीपीएफ)

प्रोविडेंट फंड (ईपीएफ) के तहत रजिस्टर्ड कर्मचारी स्‍वेच्‍छा से अतिरिक्‍त निवेश भी कर सकता है। यही वॉलेंटरी प्रोविडेंट फंड (वीपीएफ) कहलाता हैं। इस पर करीब 8.5 फीसदी का सालाना रिटर्न दिया जाता है। इसकी सबसे खास बात यह है कि इसमें तीन स्‍तरों पर टैक्स लाभ मिलता है। पहला सेक्शन 80सी के तहत टैक्स छूट।

सालाना इंट्रेस्ट से होने वाली कमाई भी टैक्स फ्री। वहीं, मैच्‍योरिटी पर मिलने वाला भुगतान भी टैक्स रहित होता है। वीपीएफ की सिर्फ एक दिक्‍कत है। इसे आप कभी भी नहीं निकाल सकते। रिटायरमेंट के बाद ही पूरा पैसा निकाला जा सकता है।

यह भी पढें- KVP: पैसा डबल होने की गारंटी, 1000 रुपये से भी कर सकते हैं शुरू

7-छोटे बैंक और कॉरपोरेट एफडी

छोटे कमर्शियल बैंक 5 साल की एफडी पर 7 फीसदी से ज्‍यादा ब्‍याज की पेशकश कर रहे हैं। थोड़ा जोखिम उठाने वालों के लिए कॉरपोरेट एफडी भी है। अतिरिक्‍त रिटर्न के साथ अतिरिक्‍त जोखिम भी जुड़े  हैं।

यह भी पढें-National Savings Certificate : 100 रुपये से भी होता है निवेश, 5 लाख बनेंगे 6.9 लाख

अगर आपको हमारा ये लेख पसंद आया हो तो कमेंट बॉक्‍स में कमेंट करें। साथ ही हमारे फेसबुक पेज पर जाकर लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें।

 

 

2 thoughts on “Fixed Deposit का ब्याज नहीं रहा आकर्षक, ये हैं निवेश के 7 बेहतरीन विकल्प

  • September 30, 2020 at 5:27 pm
    Permalink

    अकसर लोगों को इन तरीकों के बारे में पता ही नहीं होता है। ऐसी जानकारी के ल‍िए धन्‍यवाद।

    Reply
  • October 2, 2020 at 10:28 am
    Permalink

    आपका कहना सही है। इस ब्‍लॉग का उदृदेश्‍य ऐसी ही उपयोगी जानकाि‍रियां प्रदान करना हैं।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!