Elss Mutual funds में निवेश करें, टैक्स से बचाएं पैसों से कमाये मोटा रिटर्न

Elss Mutual funds में निवेश कर आप इनकम टैक्‍स से बचाए पैसों से आकर्षक रिटर्न ले सकते हैं। इक्विटी लिंक्‍ड सेविंग स्‍कीम यानी elss funds सेक्‍शन 80सी के तहत जबरदस्‍त फायदा देते हैं।

बता दें कि इस सेक्‍शन के तहत डेढ़ लाख रुपये तक की टैक्‍स सेविंग करने के साथ ही आकर्षक इक्विटी रिटर्न का लाभ मिलता है। निवेश के किसी और माध्‍यम में आप इतने रिटर्न की उम्‍मीद नहीं कर सकते। आइए जानते हैं क्‍या होते हैं tax saving mutual funds और इसमें आप किस तरह इन्‍वेस्‍टमेंट कर सकते हैं।

Advertisement

क्‍या होते हैं Elss funds ?

Elss Mutual funds इक्विटी funds होते हैं। इन्‍हें tax saving schemes भी कहा जाता है। क्‍योंकि इसमें सालाना होने वाले taxable income पर Income Tax Act की धारा 80C के तहत डेढ़ लाख रुपये तक की छूट मिलती है।

क्‍यों करें Elss funds में निवेश ?

Elss Mutual funds में टैक्‍स का पैसा बचाकर पैसा बनाया जाता है। आमतौर पर लाइफ इंश्‍योरेंस पालिसी और बैंक एफडी में इन्‍वेस्‍टमेंट कर इनकम टैक्‍स बचाने के परपंरागत तरीके खासे लोकप्रिय हैं। लेकिन इनमें जमा धनर‍ाशि को 5 साल या इससे ज्‍यादा समय तक लॉकइन रखना होता है। ज‍बकि इनसे मिलने वाला रिटर्न भी महंगाई से लड़ने में कारगर नहीं होता। वहीं, elss funds में लॉकइन पीरियड सबसे कम सिर्फ तीन साल का होता है। इन फंड्स का 100 प्रति‍शत पैसा इक्विटी में निवेश होता है। रिकार्ड्स के मुताबिक Elss funds तीन साल और इससे ज्‍यादा समय में 15 से 25 प्रतिशत का रिटर्न देते हैं।

ये भी पढ़ें- Fixed Deposit नहीं, ये हैं निवेश के 7 बेहतरीन विकल्‍प

Elss Mutual funds में कब करें निवेश

वित्‍तीय वर्ष के अंत में जब ITR फॉर्म भरने की बारी आती है तब निवेशक टैक्‍स बचाने में जल्‍दबाजी दिखाते हैं। इस दौरान वे महज टैक्‍स बचाने की सोचते है और कम लाभप्रद योजनाओं में निवेश कर देते हैं। जानकार लोग भी mutual funds की elss स्‍कीम में lumpsum पैसा लगा देते हैं। ऐसा कर वे सोचते हैं कि उन्‍होंने Elss में पैसा लगाकर टैक्‍स बचाने की कवायद पूरी कर ली। और इसके बाद वो लापरवाह बन जाते हैं। जबकि हमारी सोच टैक्‍स बचाने की बजाय इन्‍वेस्‍टमेट की होनी चाहिए। ऐसी सोच रखते हुए वित्‍तीय वर्ष की शुरुआत से ही Elss funds में निवेश करते रहना चाहिए। इससे साल के अंत में होने वाली माथापच्‍ची और गलत फैसलों के जंजाल से बच जाएंगे।

Elss Mutual Fund में पैसा कैसे लगाएं

Elss Mutual funds में आप दो तरीके से इन्‍वेस्‍टमेंट कर सकते हैं। एक है सिस्‍टेमैटिक इन्‍वेस्‍टमेंट प्‍लान और दूसरा एकमुश्‍त। आप प्रतिमाह एक  अच्‍छे Elss फंड में एसआईपी के जरिए थोड़ा–थोड़ा पैसा निवेश कर सकते हैं। आप साल के शुरू में ही इसका हिसाब लगा लें कि आपको 80 सी के तहत आपको कितना टैक्‍स बचाना है। उस अमाउंट को 12 से डिवाइड कर दें। जितना अमाउंट आए उतने पैसे से आप प्रतिमाह एसआईपी में निवेश कर सकते हैं। ऐसा करने से आप अंतिम समय में होने वाली भागदौड़ से भी बच जाएंगे।

ये भी पढ़ें- Liquid funds kya hai: इनमें निवेश Bank FD से दिलाएं ज्यादा रिटर्न

Elss में SIP vs Lumpsum

SIP के निवेश में आपको कंपाउंडिंग और एवरेजिंग का बेनेफि‍ट मिलता है। इसमें आप लॉकइन पीरियड के बाद ज्‍यादा रिटर्न की उम्‍मीद कर सकते हैं।

साल के आखिर में जब फंड एनएवी ऊपर होती है तब हम Lumpsum निवेश कर ज्‍यादा पैसों में कम यूनिट्स खरीदते हैं। वहीं, एसआईपी के निवेश में हमें औसत एनएवी मिलती है। जिससे हमें ज्‍यादा रिटर्न मिल सकता है।

Equity investment में कितना रिस्‍क

कम समयावधि में Equity investment अधिक जोखिमभरा होता है। हालांकि तीन से पांच साल और इससे लंबी अवधि के लिए इक्विटी में निवेश कम जोखिमभरा होता है। दरअसल, महंगाई के मद्देनजर बैंक एफडी और इससे मिलते जुलते निवेश साधनों का रिटर्न मामूली होता है। जोखिम रहित निवेश में maturity के बाद आपको Fixed amount मिलता है। वहीं, tax saving mutual funds थोड़े से रिस्‍क के साथ रिटर्न के मामले में जबरदस्‍त मुनाफा देते हैं।

ये भी पढ़ें- Financial planning kaise kare : फाइनेंशियल प्लानिंग समझना जरूरी

क्‍या Senior citizens ले सकते हैं Elss Mutual funds

आमतौर पर मिथक है कि Senior citizens को Equity में invest नहीं करना चाहिए। क्‍योंकि इनकी उम्र, मानसिकता और जरूरतों को देखते हुए ये बेहद जोखिमभरा है। मगर हकीकत में ऐसा सोचना सही नहीं है। Taxable income के दायरे में आने वाला हर शख्‍स elss funds में निवेश कर सकता है। भले ही वो Senior citizens ही क्‍यों न हो, क्‍योंकि टैक्‍स बचाने की चाह तो वे भी रखते ही हैं।

Elss Mutual funds से करें retirement की प्‍लानिंग

Elss Mutual funds में निवेश से युवा कर्मचारी भविष्य की retirement प्‍लानिंग भी कर सकते हैं। आज का ज्‍यादातर युवा लोग प्राइवेट नौकरीपेशा होते हैं। आमतौर पर इनके पास रिटायरमेंट के लिए कोई योजना नहीं होती। ऐसे में Elss funds में किया जाने वाला निवेश रिटायरमेंट के बाद बढ़ती महंगाई से लड़ने में कारगर साबित हो सकता है।

ये भी पढ़ें- म्‍यूचुअल फंड सही है,लेकिन किस तरह के निवेशक के लिए? यहां जानें

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!