Flexi Cap Fund : म्‍युचुअल फंड की ये नई कैटेगरी दिलाएगी मोटा रिटर्न! 

म्युचुअल फंड की एक नई कैटेगरी Flexi Cap fund के नाम से बनाई गई है। Flexi Cap fund नाम की इस नई  कैटेगरी में निवेशकों के जमा पैसों का 65 प्रतिशत निवेश इक्विटी में होगा। इनमें लार्ज कैप, मिड कैप और स्माल कैप यानी तीनों तरह की कैटेगरी वाले स्‍टॉक्‍स शामिल होंगे।

Advertisement

गौरतलब है कि सितंबर 2020 में सेबी ने मल्टी कैप फंड के लिए गाइडलाइन्‍स जारी की थी। इसमें सभी एसेट मेनैजमेंट कम्‍पनीज को अपने मल्‍टी कैप फंड्स में लार्ज, मिड और स्माल कैप स्‍टॉक्‍स के लिए 25-25 प्रतिशत निवेश किए जाने का आदेश जारी किया गया था।

SEBI ने समझीं निवेशकों की चिंता  

सेबी के इस बदलाव के कारण निवेशकों में मल्‍टी कैप फंड्स के प्रदर्शन को लेकर आशंकाएं सिर उठाने लगीं।

जो मल्‍टी कैप फंड्स बेहतर प्रदर्शन कर रहे थे, उनके निवेशकों को थोड़ी चिंता हुई कि कहीं सेबी के
आदेश के बाद पोर्टफोलियो में बदलाव किया गया तो उनके फंड्स की एनएवी पर इसका बुरा असर पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें- Elss Mutual funds में निवेश करें, टैक्स से बचाएं पैसों से कमाये मोटा रिटर्न

म्‍युचुअल फंड इंडस्‍ट्री में ये डर फैल गया था कि मौजूदा Multi Cap Fund को मिड और स्मॉलकैप स्टॉक में नई शर्तों के मुताबिक पर्याप्‍त एक्सपोजर देना पड़ेगा। स्‍मॉल कैप स्‍टॉक्‍स के एक्‍सपोजर के कारण निवेशक का जोखिम बढ़ेगा।

एएमसी और एम्‍फी ने निवेशकों की चिंताओं से सेबी को अवगत कराया। और इसके बाद एक Flexi Cap कैटेगरी बनाने की मांग उठाई गई। सेबी ने इस मांग को स्‍वीकार करते हुए अब नई कैटेगरी का ऐलान कर दिया है।

मल्टी कैप को बनाया जा सकेगा Flexi Cap fund

Flexi Cap fund की नई कैटेगरी से जुड़े सेबी के सर्कुलर में म्‍युचुअल फंड की मौजूदा स्‍कीम्‍स को कन्‍वर्ट करने का ऑप्शन भी है। हालांकि, इसके लिए सेबी को (म्यूचुअल फंड) विनियम, 1996 के विनियमन 18 (15ए) के अंतर्गत स्कीम की बेसिक चीजों में जरूरी परिवर्तन करने होंगे।

ये भी पढ़ें- SIP kya hai : म्युचुअल फंड की SIP के क्या हैं शानदार फायदे, जानें यहां

निवेशकों को क्‍या होगा फायदा?

अब फंड हाउस मौजूदा मल्‍टी कैप स्कीम्स को भी Flexi Cap fund के तौर पर रिलॉन्‍च कर पाएंगे। इस नए बदलाव की जानकारी फंड्स के सभी निवेशकों को देनी होगी।

साथ ही जो निवेशक नए फंड में शामिल नहीं होना चाहते, उन्हें फंड से बाहर निकलेन यानी  EXIT करने के लिए 30 दिन का समय मिलेगा। यह प्रावधान बिना किसी EXIT LOAD के होगा।

अभी तक मल्‍टी कैप फंड में लार्ज कैप स्‍टॉक्‍स का एक्‍सपोजर ज्‍यादा रखा जाता था, इसके बाद कुछ हिस्‍सा मिड कैप स्‍टॉक्‍स भी पोर्टफोलियो का हिस्‍सा हुआ करते थे।

अब Flexi Cap fund की नई कैटगरी में लार्ज कैप , मिड कैप और स्मॉल कैप कैटेगरी में निवेश को लेकर कोई प्रतिबंध नहीं होगा। फंड मैनेजर अपनी जरूरत के मुताबिक किसी भी कैटेगरी में निवेश का निर्णय ले सकेंगे। जो आखिरकार निवेशकों के हित में ही होगा।

ये भी पढ़ें- Liquid funds kya hai: इनमें निवेश Bank FD से दिलाएं ज्यादा रिटर्न

इंडस्‍ट्री एक्सपर्ट के मुताबिक निवेशक अब मार्केट कैप चुनने के लिए फंड मैनेजर की क्षमताओं और फैसलों पर अधिक निर्भर होंगे।

बता दें कि अगर आप अगर म्‍युचुअल फंड में नि‍वेश के इच्‍छुक हैं तो ऑनलाइन निवेश के लिए आपको डीमैट अकाउंट खोलना होगा। इसके लिए NJ India Invest Ltd में E Wealth Account  पर जाकर रजिस्‍ट्रेशन करें। यहां पैन कार्ड, आधार अपलोड कर अपना केवाईसी प्रोसेस पूरा करें।

आपके ईमेल पर अकाउंट का कन्‍फर्मेशन आते ही आप निवेश के लिए तैयार हो जाएंगे। किसी तरह की असुविधा होने पर आप 7860678995 पर WHATSAPP संपर्क कर सकते हैं। इस पर आपको आजीवन फ्री सलाह दी जाएगी।

उम्‍मीद है कि आपको “Flexi cap fund : म्‍युचुअल फंड की ये नई कैटेगरी दिलाएगी मोटा रिटर्न” से  कुछ नई जानकारी मिली होगी। अगर आपको हमारा ये लेख पसंद आया हो तो कमेंट बॉक्‍स में कमेंट करें। साथ ही हमारे फेसबुक पेज पर जाकर लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »
error: Content is protected !!